बनारस (वारणसी)

Banaras

आ रहा था काशी मैं

ढूंढने इक रोमांच नया

जिस धरती पर नितन्वित जन्मे

वीर महावीर सदा

                                  थी जो ज्ञान की नगरी

                                  मल में जिसके ज्ञान धन डगरी

                                  उन्ही वीरगाथा को सुनने

                                  आ रहा था काशी मैं

                                  ढूंढने को इक रोमांस नया

पर मन मे एक विचार जो ठहरी

सोच-सोच कर मन -मंदिर उठ सिहरि

क्या आज भी वही काशी है

जहां आगे बढ़ रहा था मैं ढूंढने इक खोज नया

                            मन मे एक विचार जो कौंधी

                            क्या वह अज्ञान भेद -भाव लिए थी

                             अभी तक अंधी

                            जा रहा था उसी काशी, ढूंढने एक सोच नया

जब पहुंचा काशी मैं

देखे ऊंचे भव्य देवालय

एक से बढ़कर एक

तब सोच क्या वही स्थान है

जिस पर प्ले-बढ़े,फूले-फले

प्रगाढ़ -विद्वान अनेक

                                    धशाखमेघ गंगा शीतला घाट

                                    वातावरण भक्तिमय हो उठता था

                                    खुलते थे जब मंदिर के कपाट

                                    उन्ही विशालकाय-महाकाय मंदिरों में

                                   शीश झुकाने आ रहा था

                                  कशी मैं ,ढूंढने एक भक्ति नया

दर्शनोपरांत चला मैं चालीसा घाट

था मुझे उच्च स्तरीय विद्वानों का साथ

जली -धधकती लाशे,उघलते शरीर

देख रहा था मैं

आ रहा था काशी मैं ,जीवन को देखने को नजरिया नया

-केतन प्रताप चौहान

%d bloggers like this: