पिंजरा

पिंजरा

पिंजरा सूरज की किरणें कैद हैं बादलो के पिंजरे में, है चाँद की रोशनी  भी कैद धूंध के पिंजरे मे, मझधार मे है वह नौका भवंर के पिंजरे मे उलझा हुआ | अच्छाईयाँ कैद है; बुराइयों के पिंजरे  में, जहाँ देखो नजर आए चेहरे पे एक नकाब, क्यों हर इंसान है कैद अपने सपनों के पिंजरे...
बनारस (वारणसी)

बनारस (वारणसी)

बनारस (वारणसी) आ रहा था काशी मैं ढूंढने इक रोमांच नया जिस धरती पर नितन्वित जन्मे वीर महावीर सदा                                   थी जो ज्ञान की नगरी                                   मल में जिसके ज्ञान धन डगरी                                   उन्ही वीरगाथा को सुनने...
मैं क्यों लिखता हूँ

मैं क्यों लिखता हूँ

मैं क्यों लिखता हूँ                                                                                                                                        मन की कथा किसे सुनाऊ अब सुनाने को क्या क्या है, अकेलेपन की गहराई में अब तैरने को क्या क्या है,...
Paradox Of Our Time

Paradox Of Our Time

Paradox of our time We’ve taller buildings but shorter tempers Wider freeways, but narrower viewpoints We spend more, but have less We buy more, but enjoy less We’ve bigger houses but smaller families More luxuries, but less time We’ve more degrees but less sense More...