मैं क्यों लिखता हूँ

Main kyun likhta hu TFD NIT AGARTALA                                                                                                                                      

मन की कथा किसे सुनाऊ

अब सुनाने को क्या क्या है,

अकेलेपन की गहराई में

अब तैरने को क्या क्या है,

                                  कोरे कागज पर कविता लिखकर

                                   क्या इसे दूर कर पाऊंगा,

                                   म की कथा किसे सुनाऊ

                                   अब सुनाने को क्या क्या है

दर्द को शब्दों में पिरोकर

इस दर्द को औरो से छुपाकर

क्या मैं जीत पाऊंगा

अब छुपाने को क्या क्या है

                                  खिली चुप तानी हवा अब मुझे नही रुझाती

                                  निज समंदर में मैं और मेरी किस्ती

                                  क्या मैं किनारे पाऊंगा

                                 मन की कथा किसे सुनाऊ

                                 अब सेवने को क्या क्या है

भीड़ में हूँ पर अकेला मैं

साथ हूँ पर तन्हा मैं

क्या मैं इस तरह जी पाऊंगा

मन की कथा किसे सुनाऊ

अब जीने को क्या क्या है

-केतन प्रताप चौहान

%d bloggers like this: